मांडना

The goddess in the bordering State of churu aaspas gods dedication day on their ordinarily be re-exported to their practice of mandana walls mandane. bayanji of mandane, gangaur of mandane, in the mandane etc. of bhainruji home typically use hmrc mandana. as well as in the mandane also use Mehndi Gilly. is an art of this region mandana. Select good and holy place in mandana on manda. Sarva Shiksha Abhiyan The first is the place to go from the wall to mandana manda is the grandson of dung dung drying and droppings grandchild of pootie place post retired medical is lime after drying are mandana manda from hmrc and mandana suhag format on Rosemary and roli mascara with tiki also.
चूरू प्रदेश के अासपास के परिक्षेत्र में देवी देवताओं के समर्पण हेतु उनके निमित उनके दिवस पर दीवारों पर मांडना मांडने की प्रथा प्रचलित है। बायांजी के मांडने, गणगौर के मांडने, भैंरूजी के मांडने आदि प्रचलित है। मांडना में मुख्‍यत: हिरमच का प्रयोग किया जाता है। साथ ही गिली मेहंदी का प्रयोग  भी मांडने में किया जाता है। मांडना इस क्षेत्र की एक कला है।
मांडना घर में साधरणतया अच्‍छी एवं पवित्र जगह पर मांडा जाता है। सर्व प्रथम जिस जगह पर मांडना मांडा जाना है उस दीवार को गोबर से पोता जाता है, गोबर के सूखने के उपरान्‍त गोबर पूती जगह को चूने से पोता जाता है सूखने के बाद हिरमच से मांडना मांडा जाता है एवं सुहाग स्‍वरूप मांडना पर मेंहदी एवं रोळी के साथ काजल टीकी भी की जाती है।



Comments